Online Chhattisgarh

  2017-03-29

यूपी के बाद छत्तीसगढ़ में दिखा असर, 3 दिन में बंद हो जाएगा यह अवैध कारोबार

OnlineCG रायपुर। गोवंश के मांस को लेकर चला आ रहा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। इसी कड़ी में पिछले दिनों उत्तरप्रदेश सरकार की ओर से अवैध कत्लखानों के खिलाफ कार्रवाई की गई। लेकिन अब छत्तीसगढ़ में भी उसका असर देखने को मिल रहा है। रायपुर नगर निगम बिना अनुमति के चल रही 11 मटन की दुकानों को बंद करने का आदेश जारी किया है। आदेश में लिखा है कि मटन दुकानों को तीन दिनों के अंदर बंद कर दिया जाए। ये सभी दुकाने रायपुर के जोन 2 में चल रही है। जोन कमिश्नर आरके डोंगरे की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि नगर निगम अधिनियम की धारा 195, 256, 257, 258, 259, 260, 261, 263, 267, 268, 269, 270 के तहत अवैध दुकानों पर कार्रवाई की जाएगी। छत्तीसगढ़ में मटन और चिकन के अलावा गोवंश का मांस प्रतिबंधित है। दो साल पहले छत्तीसगढ़ में चर्चा थी कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के गृह जिला राजनांदगांव में कत्लखाना खुलेगा। इस पर मुख्यमंत्री ने साफ कहा था कि छत्तीसगढ़ में जब तक उनकी सरकार है तब तक कोई कत्लखाना नहीं खुलेगा। सीएम ने कहा था कि देश में छत्तीसगढ़ ही एक ऐसा राज्य है, जहां गोवंश का मांस प्रतिबंधित है। रायपुर के खम्हरडीह निवासी महेंद्र का कहना है कि प्रदेश के लोग अमन पसंद है। लोगों की भावनाओं का सभी समुदाय सम्मान करते हैं। कभी कत्लखाने खोलने को लेकर किसी ने पहल नहीं की। छत्तीसगढ़ में जैन धर्म समेत दूसरे त्योहारों के सम्मान में मांस की दुकानें बंद रहती हैं। वहीँ सीरत कमेटी के पूर्व अध्यक्ष नोमान अकरम का कहना है कि छत्तीसगढ़ में कभी मांस को लेकर सियासत नहीं हुई है। यहां गोवंश के मांस को लोग खाना पसंद ही नहीं करते हैं। तो कत्लखाने का लोग समर्थन कैसे करेंगे।

You Might Also Like