Online India

  2017-01-29

2 से अधिक संतान होने पर शिक्षाकर्मियों को मिली राहत

शिक्षाकर्मियों को मिलेगा वेतनमान और क्रमोन्नति

OnlineCG Reporter। शिक्षाकर्मियों का संविलियन फिलहाल नहीं होगा। सचिव स्तरीय बैठक में अफसरों ने संविलियन की मांग को नकार दिया, लेकिन क्रमोन्नति, समयमान और वेतनमान की मांग को पूरा करने के लिए सहमति दे दी है। अनुकंपा नियुक्ति के नियमों में भी राहत देने का आश्वासन दिया गया है। दो बच्चे से अधिक होने पर भी शिक्षाकर्मियों को नौकरी से नहीं हटाया जाएगा।

शिक्षा कर्मियों की कई लंबित मांगों पर चर्चा के लिए शनिवार को मंत्रालय में शासन स्तर पर बैठक बुलाई गई। इसमें सभी संगठनों के पदाधिकारी शामिल हुए। मुख्य सचिव पंचायत एमके राउत और नगरीय प्रशासन सचिव रोहित यादव के अलावा वित्त और शिक्षा विभाग के अफसरों ने शिक्षाकर्मियों की समस्याएं सुनी। बैठक में शिक्षाकर्मियों संगठनों के पदाधिकारी संयुक्त शिक्षा कर्मी संघ के प्रांताध्यक्ष केदार जैन शालेय शिक्षाकर्मी संघ के प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र दुबे और शिक्षाकर्मी संघ के प्रदेश अध्यक्ष संजय शर्मा सहित अन्य संगठनों के पदाधिकारियों ने शिक्षाकर्मियों की मांगों व समस्याओं को उनके सामने रखा। शिक्षा विभाग में संविलियन के मुद्दे पर अफसरों ने साफ कर दिया कि अभी इस मामले में कोई फैसला नहीं लिया जाएगा। उन्होंने संविलियन करने से एक तरह से इनकार ही कर दिया।

क्यों आयोजित की गई बैठक: शिक्षाकर्मियों के तीनों प्रमुख संगठनों के अलावा बाकी संगठन भी लगातार लंबित मांगों के लिए शासन से आग्रह कर रहे थे। धरना प्रदर्शन के माध्यम से भी शासन तक अपनी मांगों को पहुंचाने का प्रयास किया गया। उसके बाद ही उच्च स्तरीय बैठक बुलाई गई। शिक्षाकर्मियों ने सबसे पहले संविलियन की मांग रखी। उसे ही नामंजूर कर दिया गया।

इन मुद्दों पर सहमति दी

- स्कूल में संस्था प्रमुख पदों पर शिक्षाकर्मियों को प्रमोशन देने के लिए नियम बनाया जाएगा।

- पदोन्नति नहीं पानी वाले शिक्षाकर्मियों को उच्च वेतनमान दिया जाएगा।

- अनुकंपा नियुक्ति में प्रशिक्षण की बाध्यता समाप्त करने और हर वर्ष टीईटी आयोजित करने का आश्वासन।

- सुपर न्यूमररी पदों को भरने के लिए आवश्यक प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

- 2 से अधिक संतान होने पर शिक्षाकर्मियों को राहत। नहीं हटाए जाएंगे सेवा से।

- अप्रशिक्षित शिक्षाकर्मियों को प्रशिक्षित करने के लिए कैंप आयोजित किए जाएंगे।

- अशंदायी पेंशन योजना को व्यवस्थित किया जाएगा। इस पर अतिरिक्त लाभ भी।

- सेवा निवृत्त शिक्षाकर्मियों को ग्रेजुएटी की पात्रता प्रदान की जाएगी।

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like