Online Chhattisgarh

  2016-11-26

अस्पष्ट आदेश की वजह से करदाता हुए परेशान

-नहीं लिए गए पुराने नोट

Online CG City।  केंद्र सरकार ने कुछ खास सुविधाओं के बिल भुगतान के लिए पुराने नोट चलाने की मियाद 15 दिसंबर तक बढ़ा दी है। इस खबर के बाद शहर के कई वार्डों में संपत्तिकर जमा करने के लिए लोग जोन कार्यालय पहुंचे। देशभर में जहां बिजली, पानी और अन्य तरह की सुविधाओं का भुगतान पुराने नोट से किए जा सकेंगे वहीं नगर निगम का संपत्तिकर अब सिर्फ नए नोट से हो सकेगा। राज्य शासन से कोई स्पष्ट आदेश नहीं मिलने के कारण नगर निगम ने पुराने नोट लेने से इंकार कर दिया है। अफसरों ने कह दिया कि उन्हें कमिश्नर से किसी तरह का आदेश नहीं मिला है। इसलिए वे अब नए नोट से ही टैक्स लेंगे। उन्हें बिना टैक्स जमा किए लौटना पड़ा। इधर, बड़ी संख्या में गुरुवार को टैक्स जमा करने से रह गए लोग भी पहुंचे, लेकिन निगम अफसरों ने उन्हें दोपहर को ही लौटा दिया था।

       केंद्र सरकार के आदेश के बाद राज्य शासन ने 24 नवंबर तक पुराने नोट से टैक्स जमा करने का आदेश दिया था। लोगों को भी बताया गया था कि वे आखिरी दिन आधी रात तक टैक्स जमा कर सकेंगे। इसके विपरीत अफसरों ने दोपहर डेढ़-दो बजे के बाद ही काउंटर बंद कर दिए। उनका कहना था कि बैंकों में पुराने नोट जमा करने हैं। बैंक के कर्मचारी दोपहर को ही जोन पहुंच गए और पुराने नोट मांगने लगे। उन्होंने यह कह दिया था कि वे नोट लेकर चले जाएंगे। इसके बाद यदि निगम अफसरों ने पुराने नोट लिए तो जिम्मेदारी उनकी होगी।हड़बड़ाए अफसरों ने लोगों को ही लौटाना शुरू कर दिया। शुक्रवार को जब लोगों को पता चला कि निगम ने संपत्तिकर लेने का समय नहीं बढ़ाया तो कुछ जोन में उनका अफसरों के साथ विवाद भी हुआ। अफसरों ने इसमें किसी भी तरह की रियायत देने से साफ इंकार कर दिया।

You Might Also Like