Online Chhattisgarh

  2016-06-17

मानसून के लिए अभी बाकी है थोड़ा और इंतज़ार

रायपुर। दक्षिण-पश्चिम मानसून दक्षिण भारत से निकलकर उत्तर-पूर्वी राज्यों तक पहुंच गया है। यहां असम, सिक्किम सहित इस क्षेत्र के कई राज्यों में जबर्दस्त बारिश रही है लेकिन छत्तीसगढ़ समेत मध्य भारत अभी भी मानसून पूर्व की स्थानीय बारिश से भीग रहा है। हालांकि तेज गर्मी नहीं है लेकिन जिस मानसून का इंतजार किया जा रहा है वह अभी कुछ और इंतजार कराने के मूड में है। बंगाल की खाड़ी में तेज हलचल नहीं होने की वजह से मानसून को आगे बढ़ने में मदद नहीं मिल रही है। दक्षिण भारत को छोड़कर बाकी हिस्से में मानसून अरब सागर की ओर से आता है। बंगाल की खाड़ी में तगड़ा सिस्टम बनता है तो मानसूनी हवा अरब सागर की ओर पहुंचती है और अरब सागर से होते हुए यह छत्तीसगढ़ पहुंचती है। बंगाली की खाली से उत्तर-पूर्वी भारत प्रभावित होता है। इसलिए इन राज्योें में मानसून पहुंच गया है लेकिन कर्नाटक और आंध्रप्रदेश में पिछले 10 जून से मानसून अटका हुआ है। यह आगे ही नहीं बढ़ रहा है। इसलिए आशंका बढ़ गई है कि छत्तीसगढ़ तक मानसून को आने में अभी और देर हो सकती है। अगर मानसून के आने में कुछ और देर हुई तो छत्तीसगढ़ में कृषि सहित कई चीजें प्रभावित होंगी। इधर, गुरुवार को राज्य के कई हिस्से में हल्की सी मध्यम बारिश हुई। रायपुर में भी दिन का तापमान 40 डिग्री के आसपास रहा। यह सामान्य से चार डिग्री अधिक है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार शुक्रवार को प्रदेश में कहीं-कहीं पर गरज-चमक के साथ हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है। समुद्र से आ रही नमी और तेज धूप के कारण लोकल सिस्टम बनने से यह स्थिति निर्मित हो रही है।

You Might Also Like