Online Chhattisgarh

OnlineIndia   2017-10-03

धान खरीदी के लिए बारदानों पर ऐसे बचेंगे 750 करोड़

OnlineIndia रायपुर। प्रदेश में 15 नवंबर से धान की खरीदी शुरू होने वाली है। मगर इस साल छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ (मार्कफेड) धान के लिए बारदानों की खरीदी नहीं करेगा। वहीं चावल के लिए 50 फीसदी नए बारदाने खरीदे जाएंगे जबकि धान पुराने बारदानों में ही खरीदा जाएगा। इसके लिए सार्वजनिक वितरण प्रणाली में उपयोग में आ रहे पुराने बारदानों का इंतजाम किया जा रहा है। पता चला है कि इस बार केंद्र सरकार ने धान खरीदी के लिए नए बारदानों की खरीदी पर रोक लगा दी है। इससे मार्कफेड और राज्य सरकार के लगभग 750 करोड़ रूपए की बचत होगी। ज्ञात हो कि प्रदेश सरकार हर साल किसानों से समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी करती है। इसके लिए हर साल बारदानों की भी खरीदी की जाती है। आपको बता दें कि धान के लिए जूट मिलों से जो बारदाने खरीदे जाते हैं उनकी लागत लगभग 50 रुपए आती है।

You Might Also Like