Online Chhattisgarh

Roshan Bharti   2018-01-12

झोपड़ी में लगी आग से दो मजदूर जिंदा जले

OnlineIndia बिलासपुर। गुरुवार देर रात मरवाही से 10 किलोमीटर दूर ग्राम टिकठी के एक झोंपड़ी में आग लग गई। मिली जानकारी के अनुसार इस आगजनी में मध्य प्रदेश के बुढार से ईंट बनाने आए दो आदिवासी मजदूरों की मौत हो गई। वहीं इस हादसे के बारे में रात को किसी को भनक नहीं लगी। जब सुबह हुई तब जाकर घटना की जानकारी हुई जिसके बाद ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। वहीं पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

मरवाही पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश के शहडोल जिले के बुढ़ार के ग्राम अरछुला निवासी संजू बैगा पिता लंबू बैगा (45) व विकास बैगा पिता ललुवा बैगा (20) ग्राम टिकठी में संचालित ईंट भठ्ठा में ईंट बनाने के लिए आए थे। ठेकेदार ने दोनों श्रमिकों को रहने के लिए भठ्ठा के पास ही जगह दे दी थी, जहां दोनों एक झोपड़ी बनाकर रहते थे।

बताया जा रहा है कि झोपड़ी लकड़ी व पैरा से बनाई गई थी जहां श्रमिक खाना बनाने व आग तापने के लिए झोपड़ी के अंदर चूल्हा भी जलाया करते थे। रोज की तरह संजू व विकास भोजन करने के बाद चूल्हा जलाकर सो गए। इस बीच दोनों गहरी नींद में थे। तभी अंदर चूल्हे में जल रही आग ने झोपड़ी को चपेट में ले लिया, जिससे पूरी झोपड़ी जलकर खाक हो गई। वहीं झोपड़ी अंदर सो रहे संजू व विकास भी जिंदा जल गए। जब सुबह आसपास रहने वाले लोगों ने झोपड़ी से धुआं निकलते देखा तब पता चला कि झोपड़ी सहित दोनों श्रमिक भी जल गए हैं।

You Might Also Like