Online India

OnlineIndia   2018-01-21

AAP पर मंडराए काले बदल, 20 विधायकों की सदस्यता हुई रद्द  

OnlineIndia डेस्क। दिल्ली में सत्ताधारी 'आम आदमी' पार्टी को बड़ा झटका लगा है। लाभ का पद के मामले में 'आप' के 20 विधायकों की सदस्यता रद्द हो गई है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने चुनाव आयोग के फैसले को मंजूरी दे दी है। सरकार ने राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद अधिसूचना जारी कर इसकी जानकारी दी। शुक्रवार को चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति से सिफारिश की थी 20 विधायकों को अयोग्य घोषित किया जाए। चुनाव आयोग का मानना था कि 'आप' के विधायक 'ऑफिस ऑफ प्रॉफिट' के दायरे में आते हैं।

दरअसल, दिल्ली में केजरीवाल सरकार ने 2015 में 'आप' पार्टी के 21 विधायकों को संसदीय सचिव बनाया था। इसके बाद प्रशांत पटेल नाम के वकील ने लाभ का पद बताकर राष्ट्रपति के पास शिकायत करते हुए इन विधायकों की सदस्यता खत्म करने की मांग की थी। हालांकि विधायक जनरैल सिंह के पिछले साल विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने के बाद इस मामले में फंसे विधायकों की संख्या 20 हो गई थी।

आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया था कि मुख्य चुनाव आयुक्त ए के ज्योति अपने रिटायरमेंट से पहले सारे पेंडिंग केस खत्म करना चाह रही हैं, इसलिए आयोग फटाफट पुराने मामलों का निपटारा कर रहा है। मुख्य चुनाव आयुक्त ए के ज्योति 22 को रिटायर हो जाएंगी। हालांकि 'आप' पार्टी का कहना है कि चुनाव आयोग इसका फैसला नहीं कर सकता, इसका फैसला अदालत में किया जाना चाहिए।

संविधान के अनुच्छेद 102(1)(A) और 191(1)(A) के अनुसार संसद या फिर विधानसभा का कोई सदस्य अगर लाभ के किसी पद पर होता है तो उसकी सदस्यता खत्म कि जा सकती है। यह लाभ का पद केंद्र और राज्य किसी भी सरकार का हो सकता है।

 

'आप' पार्टी के 20 विधायक जिनकी सदस्यता हुई रद्द

  1. प्रवीण कुमार
  2. शरद कुमार
  3. आदर्श शास्त्री
  4. मदन लाल
  5. चरण गोयल
  6. सरिता सिंह
  7. नरेश यादव
  8. जरनैल सिंह
  9. राजेश गुप्ता
  10. अलका लांबा
  11. नितिन त्यागी
  12. संजीव झा
  13. कैलाश गहलोत
  14. विजेंद्र गर्ग
  15. राजेश ऋषि
  16. अनिल कुमार वाजपेयी
  17. सोमदत्त
  18. सुलबीर सिंह डाला
  19. मनोज कुमार
  20. अवतार सिंह

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like