Online Chhattisgarh

Roshan Bharti   2018-01-23

फलाहारी बाबा पर कोर्ट ने तय किया दुष्कर्म का आरोप, हो सकती है 10 साल की सजा

OnlineIndia डेस्क। फलाहारी बाबा पर छत्तीसगढ़ के बिलासपुर की युवती से यौन शोषण का आरोप लगाया था। अलवर सेंट्रल जेल में बंद फलाहारी बाबा पर अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश संख्या 1 राजेंद्र शर्मा ने सोमवार को आरोप तय किए। इस दौरान फलाहारी बाबा को भी कोर्ट में पेश किया गया।

अपर लोक अभियोजक योगेंद्र सिंह खटाना ने बताया कि कोर्ट ने बचाव पक्ष और अभियोजन की दलील सुनने के बाद पुलिस जांच के आधार पर चालान में लगाई गई धाराओं के मुताबिक फलाहारी बाबा पर आरोप तय करते हुए चार्ज लगाया है।

फलाहारी बाबा के वकील की ओर से इंडियन पीनल कोड की धारा 376 सी में चार्ज लगाने का आवेदन किया गया। लेकिन कोर्ट ने धारा 376 (2) (च) और 506 के तहत आरोप तय किए हैं। इस मामले में पीड़ित युवती का बयान कोर्ट में 19 फरवरी 2018 को दर्ज होगा। अगर कोर्ट फलाहारी बाबा के वकील का आवेदन स्वीकार कर धारा 376 सी में आरोप तय करती है, तो आरोप साबित होने की स्थिति में फलाहारी बाबा को कम से कम 5 साल की जेल हो सकती है। वहीं अधिकतम 10 साल की जेल और जुर्माने की भी सजा हो सकती है।

बता दें कि कौशलेंद्र प्रपन्नाचारी यानि फलाहारी बाबा छत्तीसगढ़ के बिलासपुर की एक युवती ने यौन शोषण का आरोप लगाया था। इसके बाद 23 सितंबर को फलाहारी बाबा को अलवर के मधुसूदन सेवा आश्रम से गिरफ्तार किया गया था। पुलिस में दर्ज रिपोर्ट के मुताबिक फलाहारी बाबा ने युवती को रात में अपने कमरे में बुलाया और उसके साथ दुष्कर्म किया था।

You Might Also Like