Online India

Pooja Sharma   2018-02-12

सेना और शहीदों के अपमान के लिए शर्म आनी चाहिए : राहुल गांधी  

OnlineIndia डेस्क । कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के उस बयान की आलोचना की है जिसमें उन्होंने कहा है कि सेना को तैयार होने में 6-7 महीने लगेंगे जबकि संघ के स्वयंसेवकों को 2 से तीन महीने ही लगेंगे। राहुल गांधी ने मोहन भागवत के बयान को सेना और शहीदों का अपमान बताया है। वहीं, विवाद बढ़ता देख आरएसएस ने सफाई देते हुए कहा है कि भागवत के बयान का गलत मतलब निकाला गया है।

राहुल ने ट्वीट किया, 'आरएसएस चीफ का यह बयान हर भारतीय का अपमान है, क्योंकि उन्होंने देश के लिए जान देने वालों का असम्मान किया है। यह देश के झंडे का भी अपमान है, क्योंकि तिरंगे को सलाम करने वाले सैनिकों का अपमान किया गया है। भागवत को सेना और शहीदों का अपमान करने के लिए शर्म आनी चाहिए।'

हालांकि संघ की ओर से मामले में दी गई सफाई में कहा गया है कि मोहन भागवत की ओर से दिए गए बयान को गलत तरीके से पेश किया गया है। उनके कहने का मतलब था कि परिस्थिति आने पर और संविधान द्वारा मान्य होने पर भारतीय सेना को सामान्य समाज को तैयार करने के लिए 6 महीने का वक्त चाहिए। लेकिन संघ के स्वयंसेवकों को भारतीय सेना 6 महीने में ही तैयार कर लेगी क्योंकि संघ के स्वयंसेवकों का अनुशासन ही ऐसा रहता है। यह सेना के साथ तुलना नहीं है। समाज और स्वयंसेवकों के बीच थी।C

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like