Online India

Roshan Bharti   2018-03-21

एक और घोटाला: कनिष्क ज्वैलर्स 14 बैंकों के 854 करोड़ रुपए लेकर हुआ फरार

OnlineIndia डेस्क। देश में बैंक से जुड़े बड़े घोटाले खत्म होने का नाम नहीं ले रहे। पीएनबी बैंक घोटाले के बाद देश में एक और बड़ा बैंक घोटाला सामने आया है। इस बार घोटाले का मुख्य शिकार भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) बना है। ज्वेलरी कारोबार से जुड़ी एक और कंपनी ने बैंकों को 824.15 करोड़ रुपए का चूना लगाया है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने जनवरी में सीबीआई से चेन्नई की ज्वेलरी चेन कनिष्क गोल्ड की जांच करने को कहा था।
कनिष्क गोल्ड का रजिस्टर्ड ऑफिस तमिलनाडु के चेन्नई में है। इसके प्रोमोटर्स और डायरेक्टर्स भूपेश कुमार जैन और उनकी पत्नी नीता जैन है। बैंकर्स का कहना है कि इन दोनों से पिछले कुछ समय से संपर्क नहीं हो सका है। बैंकों का मानना है कि दोनों इस वक्त मॉरिशस में रहते हैं। हालांकि, इस मामले में अभी तक सीबीआई ने एफआईआर नहीं की है।
टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, कनिष्क गोल्ड को लोन देने वालों में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अलावा निजी और सरकारी 14 बैंक शामिल हैं। 25 जनवरी 2018 को सीबीआई को लिखे एक लेटर में एसबीआई ने आरोप लगाया था कि कनिष्क गोल्ड रिकॉर्ड को बदलने की कोशिश और रातोंरात दुकानें बंद कर रही है। बैंकों के मुताबिक, कंपनी पर 824 करोड़ का कर्ज है और ब्याज मिलाकर यह रकम 1000 करोड़ रुपए से ज्यादा हो सकती है।
एसबीआई ने सबसे पहले कंपनी के खिलाफ आरबीआई को जानकारी दी थी। एसबीआई ने 11 नवंबर 2017 में आरबीआई को कंपनी के फ्रॉड के बारे में बताया था। जनवरी में बैंकों के कंसोर्शियल के बाकी सदस्य (बैंक) ने भी कंपनी के खिलाफ फ्रॉड की शिकायत दर्ज कराई। एसबीआई के मुताबिक, ज्वेलरी कंपनी ने मार्च 2017 में पहली बार आठ बैंकों के ब्याज का डिफॉल्ट किया था। वहीं, अप्रैल 2017 के बाद कनिष्क गोल्ड ने सभी 14 बैंकों का भुगतान नहीं किया।

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like