Online India

OnlineIndia   2018-05-16

PSC 2017 मामले में आया बड़ा फैसला, पढ़िए क्या है नया आदेश!

OnlineIndia बिलासपुर। छात्रों के लिए ये खबर काफी महत्वपूर्ण है। आखिरकार हाईकोर्ट ने पीएससी 2017 प्रारंभिक परीक्षा के विवादित मॉडल आंसर की विशेषज्ञ कमेटी से जांच कराने के बाद 10 से 15 दिन के अंदर फिर से परिणाम घोषित करने का आदेश दिया है। कोर्ट ने निर्देश दिया है कि परिणाम घोषित नहीं होने पर 22 जून को होनी वाली मुख्य परीक्षा की  तिथि आगे बढ़ाई जाए। छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग ने 29 नवंबर 2017 को राज्य सेवा के 299 पदों के लिए विज्ञापन जारी किया था। 18 फरवरी 2018 को प्रारंभिक परीक्षा ली गई। 22 फरवरी को मॉडल आंसर जारी कर दावा आपत्ति मंगाई गई। इसके बाद सात अप्रैल को संशोधित मॉडल आंसर जारी किया गया।

इसके बाद मुख्य परीक्षा में शामिल होने के लिए चयनित उम्मीदवारों के परिणाम घोषित किए गए। प्रारंभिक परीक्षा में शामिल उम्मीदवार विनय अग्रवाल व अमित विश्वास ने अधिवक्ता मतीन सिद्दिकी के माध्यम से हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की। इसमें कहा गया कि पूर्व में जारी मॉडल आंसर सही होने के बावजूद संशोधित मॉडल आंसर जारी किया गया। इसके कारण वे मुख्य परीक्षा के लिए चयनित नहीं हो पाए हैं। याचिका पर सुनवाई के बाद जस्टिस पी. सेम कोशी ने छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग को नई एक्सपर्ट कमेटी गठित कर आदेश में अंकित सभी प्रश्नों की जांच कराने के निर्देश दिए हैं।

यदि कमेटी जांच के बाद किसी प्रश्न को विलोपित करना आवश्यक समझती है तो उसके अंक प्रदान कर नई चयन सूची जारी की जाए। कोर्ट ने एक्सपर्ट कमेटी को 10 से 15 दिन में इस कार्य को पूरा करने के लिए कहा है। यदि 22 जून से पहले नई चयन सूची जारी नहीं होती है तो मुख्य परीक्षा की तिथि आगे बढ़ाने के निर्देश दिए है। इसके साथ कोर्ट ने याचिका को निराकृत किया है।

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like