Online India

Pooja Sharma   2018-06-13

महासमुंद: इन पक्षियों को मानते हैं देवदूत, अच्छी बारिश और फसल का मिलता है शुभ संकेत

OnlineIndia महासमुंद। छत्तीसगढ़ के महासमुंद से महज 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित लचकेरा गांव इन दिनों प्रवासी पक्षियों का ठिकाना बना हुआ है। लचकेरा में प्रजनन के लिए एशियन ओपन बिल स्ट्रोक पक्षियों ने अपना डेरा बसाया है। सैंकड़ों की संख्या में आ रहे इन पक्षियों के कलरव से लचकेरा गांव गुंजायमान होने लगा है। बरसात के दिनों में इन पक्षियों की संख्या में बढ़ोत्तरी होने का अनुमान लगाया जा रहा है। ग्रामीण इन पक्षियों को देवदूत मानते हैं और इन्हें शुभ मानते हुए खेती का काम शुरू करते हैं।


आपको बता दें कि महासमुंद और गरियाबंद जिले की सीमा से लगा लचकेरा गांव में एशियन ओपन बिल स्ट्रोक पक्षी भारी संख्या में प्रजनन के लिए पहुंच रहे हैं। मानसून के आने के साथ ही इन पक्षियों की संख्या में लगातार वृद्धि होने की संभावना है। लचकेरा गांव में ये पक्षी पीपल, आम, कहुआ और इमली जैसे पेड़ों पर अपना आशियाना बनाते हैं। ये पक्षी मानसून के समय इस गांव में आते हैं और दीपावली के समय यहां से पलायन कर जाते हैं।

गांव में इन पक्षियों के देवदूत मानते हैं। ग्रामीणों का कहना है कि इन पक्षियों के आने से अच्छी फसल और अच्छी बारिश होती है। ग्रामीण इन पक्षियों की देखभाल भी करते हैं और इनकी निगरानी के लिए अर्थदंड का प्रावधान भी रखा है। ग्रामीणों का कहना है कि जो इन पक्षियों को मारता है उस पर 1000 रुपए का जुर्माना है और जो इसकी सूचना देता है उसे 500 रुपए का इनाम भी दिया जाता है।

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like