Online India

OnlineIndia   2018-07-19

छत्तीसगढ़: 153 मुख्यमंत्री सड़कें चढ़ीं लापरवाही की भेंट

OnlineIndia रायपुर। प्रदेश में तय सयम सीमा में 153 सीएम सड़कों का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो पाया। इसके पीछे असफरों की लापरवाही सामने आ रही है। इनके निर्माण के लिए करोड़ों का फंड भी जारी कर दिया था, इसके बावजूद अधूरे हैं। 2017-18 में 100 सीएम सड़कों का तीन सौ एक किलोमीटर तक निर्माण कार्य किया जाना था। इसके लिए 20132.21 लाख रुपए का बजट जारी कर दिया गया है। इन्हें मार्च तक पूरा करना था, लेकिन नहीं हो सका। इसके अलावा 2016-17 में 132 (350 किमी) सीएम सड़कों के निर्माण का लक्ष्य था।

इनमें 99 पूर्ण हो चुके हैं, लेकिन 33 का निर्माण अभी अधूरा है। 2015-16 में 153 सीएम सड़कों में 10 का निर्माण कार्य लटके हुए हैं। 2013-14 में एक निर्माण पूरा ही नहीं हो सका। 2012-13 में 2811 किलोमीटर तक 842 सड़कों का निर्माण कार्य होना था। इनमें नौ सीएम सड़क निर्माण का कार्य पूरा नहीं पाया है।

इन जिलों में इतने अधूरे निर्माण कार्य
- रायपुर में 2016-17 में एक, 2017-18 में स्वीकृति दो सड़क का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो सका है।
- रायपुर में 2016-17 में एक, 2017-18 में स्वीकृति दो सड़क का निर्माण कार्य पूरा नहीं हो सका है।
- बालौदाबाजार में कुल 19 सीएम सड़कें अधूरी हैं। इसमें 2017-18 के सभी 16 सीएम सड़क पूरी नहीं। 2016-17 के दो, 2015-16 के एक निर्माण आज भी पूरे नहीं।
- धमतरी में 15 सीएम सड़क पूरी नहीं। यहां भी 2017-18 के नौ, 2016- 17 के पांच, 2015-16 का एक निर्माण कार्य अधूरा।
- गरियाबंद में 2017-18 में एक किलोमीटर की एक सीएम सड़क निर्माण अभी चल रहा है।
- महासमुंद में आठ सड़कें पूरी नहीं हुईं। इनमें 2017-18 के दो, 2016-17 के चार, 2015-16 के दो निर्माण कार्य अधूरे हैं।
- राजनांदगांव में 17 सड़कों का निर्माण पूरा नहीं हुआ। 2017-18 के 12 अपूर्ण हैं। 2016-17 के दो, 2015-16 के तीन निर्माण पूरे नहीं हुए।
- दुर्ग में 2017-18 में स्वीकृत दो निर्माण कार्य अभी चल रहा है।
- बेमेतरा में 23 सड़क अधूरी हैं। इसमें 2017-18 की 14 सड़कों को निर्माण कार्य चल रहा है। इसके अलावा 2016-17 के पांच, 2012-13 के चार निर्माण कार्य अधूरा है। 9-बालोद में 2016-17 में स्वीकृत दो सड़कों का निर्माण कार्य अभी तक पूरे नहीं हुए।
- कबीरधाम में आठ, जांजगीर चांपा में पांच, रायगढ़ में सात, सरगुजा में तीन, जशपुर में दो, बलरामपुर में एक, कोरिया में दो, कोरबा में चार, मुंगेली में 15, बिलासपुर में चार, कोण्डागांव में एक, कांकेर में पांच, बस्तर में चार, बीजापुर में एक, नारायणपुर में एक सीएम सड़क अधूरी है। बालौदाबाजार में कुल 19 सीएम सड़कें अधूरी हैं। इसमें 2017-18 के सभी 16 सीएम सड़क पूरी नहीं। 2016-17 के दो, 2015-16 के एक निर्माण आज भी पूरे नहीं।
- धमतरी में 15 सीएम सड़क पूरी नहीं। यहां भी 2017-18 के नौ, 2016- 17 के पांच, 2015-16 का एक निर्माण कार्य अधूरा।
- गरियाबंद में 2017-18 में एक किलोमीटर की एक सीएम सड़क निर्माण अभी चल रहा है।
- महासमुंद में आठ सड़कें पूरी नहीं हुईं। इनमें 2017-18 के दो, 2016-17 के चार, 2015-16 के दो निर्माण कार्य अधूरे हैं।
- राजनांदगांव में 17 सड़कों का निर्माण पूरा नहीं हुआ। 2017-18 के 12 अपूर्ण हैं। 2016-17 के दो, 2015-16 के तीन निर्माण पूरे नहीं हुए। य दुर्ग में 2017-18 में स्वीकृत दो निर्माण कार्य अभी चल रहा है।
- बेमेतरा में 23 सड़क अधूरी हैं। इसमें 2017-18 की 14 सड़कों को निर्माण कार्य चल रहा है। इसके अलावा 2016-17 के पांच, 2012- 13 के चार निर्माण कार्य अधूरा है।
- बालोद में 2016-17 में स्वीकृत दो सड़कों का निर्माण कार्य अभी तक पूरे नहीं हुए।
- कबीरधाम में आठ, जांजगीर चांपा में पांच, रायगढ़ में सात, सरगुजा में तीन, जशपुर में दो, बलरामपुर में एक, कोरिया में दो, कोरबा में चार, मुंगेली में 15, बिलासपुर में चार, कोण्डागांव में एक, कांकेर में पांच, बस्तर में चार, बीजापुर में एक, नारायणपुर में एक सीएम सड़क अधूरी है।

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like