Online India

OnlineIndia   2018-08-02

दूसरी जाति में शादी की मिली सज़ा

OnlineIndia डेस्क। ओडिशा में मानवता शर्मसार हुई है। मृत शरीर को कंधा देने के लिए चार आदमी नहीं मिले और शव को साइकिल में रस्सी से बांधकर श्मशान घाट ले जाना पड़ा।
ओडिशा के ही बौद्ध जिले में ऐसी ही एक घटना सामने आई है जिसमें लाश को कंधा देने से पूरे गांव ने इनकार कर दिया और उसे साइकिल पर बांधकर श्मशान तक ले जाया गया। इस लाश के साथ ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि मरने वाली महिला की बहन के पति ने दूसरी जाति में शादी कर ली थी।


प्राप्त जानकारी के मुताबिक दूसरी जाति में शादी करने के चलते गांव वालों ने इस तरह का दंड दिया है जो कि बौद्ध जिले के साथ पूरे राज्य में चर्चा का विषय बन गया है। बौद्ध जिले के कृष्ण पाली गांव के चतुर्भुज बांक की पहली पत्नी से कोई बच्चा नहीं था। इससे बांक ने दूसरी जाति की लड़की से शादी कर ली।
इसे गांव वालों ने बर्दाश्त नहीं किया और चतुर्भुज बांक को गांव से बहिष्कृत कर दिया। चतुर्भुज के घर कोई भी कार्यक्रम होने पर उसमें गांव वाले भाग नहीं लेते थे।
सास-ससुर की मौत के बाद चतुर्भुज की साली चतुर्भुज के घर रहने लगी। मंगलवार को उसकी अचानक तबीयत खराब हो गई, उसे अस्पताल में भर्ती किया गया जहां उसकी बुधवार को मौत हो गई।
शव को एंबुलेंस के जरिए घर लाया गया। चतुर्भुज ने साली के अंतिम संस्कार के लिए गांव वालों को बुलाया था। लेकिन गांव वालों ने सीधे तौर पर अंतिम संस्कार में भाग लेने से यह कह कर मना कर दिया कि उसने दूसरी जाति में शादी की है।

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like