Online Chhattisgarh

  2017-06-19

बहुत जल्द ट्रेनों में मिलेगा हाईस्पीड इंटरनेट

OnlineCG ब्यूरो। बहुत जल्द अब रेल यात्री सफर के दौरान हाईस्पीड इंटरनेट की सुविधा का लाभ ले सकेंगे। इसके लिए रेलवे 5000 करोड़ रुपए की लागत से हाईस्पीड मोबाइल कम्युनिकेशन कॉरिडोर तैयार कर रहा है। इस सिस्टम से रेलवे के कर्मचारी (गैंगमेन) लोको पायलट और स्टेशन मास्टर को ट्रैक के हालात की सीधी (रियल टाइम) जानकारी दे सकेंगे। इससे ट्रेन ऑपरेशन और संचालन में सुधार होगा। रेल मंत्रालय के अनुसार, मुख्य मार्ग पर पर 2541 किलोमीटर में नए कम्युनिकेशन सिस्टम ने काम शुरू कर दिया है। वहीं 3408 किलोमीटर मार्ग पर इसका काम तेजी से चल रहा है। कम्युनिकेशन कॉरिडोर बनाने के लिए रेल मंत्रालय ने एक कंपनी को इसका जिम्मा सौंपा है। यह कॉरिडोर पीपीपी मॉडल के तहत बनाया जा रहा है। रेल संचालन के लिए रेलवे फिलहाल वायरलेस सिस्टम का इस्तेमाल करता है। इसमें ड्राइवर और कंट्रोलर किसी ट्रेन का मार्ग तय करते हैं। रेलवे के सिग्नल और टेलीकॉम शाखा के अधिकारी ने बताया कि अब जीएसएम-आर (ग्लोबल सिस्टम फॉर मोबाइल कम्युनिकेशन-रेलवेज) की जगह एलटीई-आर (लॉन्ग टर्म इवोल्यूशन-रेलवेज) सिस्टम लगाया जा रहा है। हाईस्पीड कॉरिडोर से अलग-अलग रूट की ट्रेनों के संचालन में सुरक्षा और प्रबंधन के अलावा यात्रियों को ब्रॉडबैंड सेवा भी मिलेगी। यात्री आजकल हर वक्त इंटरनेट कनेक्टिविटी चाहते हैं। चाहे वो ट्रेन में हों या स्टेशन पर। यह सिस्टम रेलवे के साथ यात्रियों की जरूरतों को पूरा करेगा। इससे आने वाले वक्त में यह मोबाइल ट्रेन रेडियो कम्युनिकेशन में नियंत्रण कक्ष और ट्रेन के चालक दल के साथ बेहतर कम्युनिकेशन बनाने में मददगार होगा। आपको बता दें कि पिछले साल देश के बड़े स्टेशनों में फ्री इंटरनेट सुविधा की शुरूआत हुई थी। इसका ऐलान भारत दौरे पर आए गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने किया था। वहीं हाल ही में शुरू हुई तेजस एक्सप्रेस समेत देश की कुछ ट्रेनों में यात्रियों के लिए वाईफाई सुविधा उपलब्ध है।

You Might Also Like